A- A A+
Last Updated : Jan 21 2021 7:28PM     Screen Reader Access
News Highlights
Govt approves over one crore one lakh houses under Pradhan Mantri Awas Yojana (Urban) till date            More than 8 lakh beneficiaries get COVID-19 vaccine across country            Nation Covid-19 recovery rate reaches 96.75 per cent            Meghalaya, Manipur & Tripura celebrate their statehood day today; Prez, Vice Prez & PM greet the people            Country's major indices of stock exchanges register new all-time high           

Text Bulletins Details


समाचार संध्या

2000 HRS
04.12.2020
मुख्य समाचार:-

  • प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कोविड-19 की स्थिति पर विचार-विमर्श के लिए सर्वदलीय बैठक की अध्‍यक्षता की। कहा - विश्‍व, कोरोना वायरस से बचाव के प्रभावी और किफायती टीके के लिए भारत की ओर देख रहा है।

  • देश में कोविड-19 से स्‍वस्‍थ होने की दर बढकर 94 दशमलव दो प्रतिशत हुई।

  • प्रधानमंत्री अब से कुछ देर बाद आईआईटी-2020 वैश्विक शिखर सम्‍मेलन में मुख्‍य भाषण देंगे।

  • केन्‍द्र सरकार और किसानों के बीच पांचवें दौर की बातचीत कल नई दिल्‍ली में होगी।

  • जम्‍मू कश्‍मीर में जिला विकास परिषद के तीसरे चरण का मतदान सम्‍पन्‍न।

  • भारत ने तीन मैचों की ट्वेंटी-ट्वेंटी क्रिकेट श्रृंखला के पहले मैच में ऑस्‍ट्रेलिया को 11 रन से हराया।

------------

कोविड महामारी के खिलाफ देश एकजुट होकर लड़ रहा है। आप भी हमारे साथ सुरक्षा और बचाव के तीन आसान एहतियाती उपायों का संकल्‍प लें।


मास्‍क पहनें

दो गज दूरी, है जरूरी।

सुरक्षित दूरी बनाए रखें।

हाथ और मुंह साफ रखें।


प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि अगले कुछ सप्‍ताहों में भारत के पास कोविड माहामारी से बचाव के लिए टीका उपलब्‍ध हो जायेगा। महामारी के बारे में वर्चुअल सर्वदलीय बैठक में आज श्री मोदी ने कहा कि भारतीय वैज्ञानिकों को पूरा भरोसा है कि अगले कुछ सप्‍ताह में वे कोरोना महामारी के लिए टीके का विकास कर लेंगे।


प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में अभी महामारी के आठ संभावित टीकों का विकास परीक्षण के विभिन्‍न चरणों में है। श्री मोदी ने कहा कि आज सारी दुनिया कोरोना महामारी के किफायती और कारगर टीके की भारत से उम्‍मीद कर रही है।


भारत के वैज्ञानिक अपनी सफलता को लेकर बहुत ही आश्वस्त हैं। उनका कॉन्फिडेंस लेबल बहुत ही मज़बूत है। अभी अन्य देशों की कई वैक्सीनों के नाम बाज़ार में हम सब सुन रहे हैं लेकिन फिर भी दुनिया की नज़र कम कीमत वाली सबसे सुरक्षित वैक्सीन पर है और इस वजह से स्वाभाविक है पूरी दुनिया की नज़र भारत पर भी है।


श्री मोदी ने कहा कि वैज्ञानिक समुदाय के सहयोगपूर्ण प्रयासों से भारत निकट भविष्‍य में बड़े पैमाने पर टीकाकरण के लिए वैकल्पिक टीका बना लेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि अनुसंधान वैज्ञानिकों से टीके को मंजूरी मिल जाने के बाद ही टीकाकरण कार्यक्रम शुरू किया जायेगा। श्री मोदी ने कहा कि देश में बड़े पैमाने पर आम लोगों के टीकाकरण का कार्यक्रम मौजूद है और टीकों के समुचित भंडारण और आपूर्ति के लिए पर्याप्‍त शीत भंडारण सुविधाओं का विकास किया जा रहा है। उन्‍होंने बताया कि भारत ने वैक्‍सीन के लिए एक विशेष सॉफ्टवेयर भी बनाया है।


भारत ने एक विशेष सॉफ्टवेयर भी बनाया है--कोविन, जिसमें कोरोना वैक्सीन के लाभार्थी वैक्सीन के उपलब्ध स्टॉक और स्टोरेज से जुड़ी रियल टाइम इन्फॉर्मेशन रहेगी। भारत में कोरोना वैक्सीन के रिसर्च से जुड़े दायित्व के लिए विशेष टास्क फोर्स का गठन किया गया है और वैक्सीन के जुड़े अभियान का दायित्व नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप को दिया गया है। इसमें टेक्नीकल एक्सपर्ट हैं, केंद्र सरकार से संबंधित मंत्रालयों और विभागों के अधिकारी हैं, प्रत्येक जोन के हिसाब से राज्य सरकारों के भी प्रतिनिधि हैं। ये नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप राज्य सरकारों के साथ मिलकरके काम कर रहा है।


श्री मोदी ने कहा कि देश में सबसे पहले स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों और महामारी से निपटने में लगे अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं को टीके लगाये जायेंगे।


टीकाकरण के पहले चरण में किसे वैक्सीन लगेगी, इसे लेकर भी केंद्र सरकार राज्य सरकारों से मिले सुझावों के आधार पर काम कर रही है। इसमें प्राथमिकता कोरोना मरीज़ों के इलाज में जुटे हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंट लाइन वर्कर और जो पहले से गम्भीर बीमारियों से जूझ रहे हैं, वैसे बुजुर्ग लोगों को दी जाएगी।


प्रधानमंत्री ने बताया कि टीकाकरण कार्यक्रम की विस्‍तृत प्राथमिकता सूची राज्‍यों और केन्‍द्रशासित प्रदेशों के सहयोग से तैयार की जायेगी। उन्‍होंने कहा कि टीकों का मूल्‍य राज्‍य सरकारों के परामर्श से तय किया जायेगा और आमजन के स्‍वास्‍थ्‍य को सर्वोच्‍च प्राथमिकता दी जायेगी।


प्रधानमंत्री ने कहा कि देश ने फरवरी-मार्च के बाद से अब तक कोरोना से निपटने में काफी प्रगति कर ली है। श्री मोदी ने कहा कि भारत ने कोरोना के खिलाफ लडाई में विकसित देशों की तुलना में ज्‍यादा लोगों की जान बचायी है।


भारत ने जिस तरह कोरोना के खिलाफ लड़ाई को लड़ा है, वो प्रत्येक देशवासी की अदम्य इच्छाशक्ति को दिखाता है। विकसित देशों, अच्छे मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर वाले देशों की तुलना में भी भारत ने इस लड़ाई को कहीं बेहतर तरीके से लड़ा है और अपने ज़्यादा से ज़्यादा नागरिकों की जान बचाई है। हम भारतीयों का संयम, हम भारतीयों का साहस, हम भारतीयों का सामर्थ्य इस पूरी लड़ाई के दौरान अतुल्य रहा है, अभूतपूर्व रहा है।


प्रधानमंत्री ने लोगों के अदम्‍य साहस और प्रयासों के लिए सभी के प्रति आभार व्‍यक्‍त किया। श्री मोदी ने कहा कि भारत ने न सिर्फ अपने नागरिकों की मदद की है बल्कि अन्‍य राष्‍ट्रों को भी मदद पहुंचाई है और उन्‍हें दवाएं उपलब्‍ध कराई हैं। श्री मोदी ने लोगों से आग्रह किया कि वे कोरोना के खिलाफ अभियान में जनभागीदारी जारी रखें, क्‍योंकि देश को बहुत जल्‍द दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का संचालन करना है।


प्रधानमंत्री ने अधिकारियों से टीकाकरण कार्यक्रम के बारे में आमजन को जानकारी देने को भी कहा। उन्‍होंने कहा कि इस तरह के व्‍यापक अभियानों में ही सही जानकारी से अफवाहें फैलने से रोका जा सकेगा। उन्‍होंने यह भी कहा कि टीका आने तक लोगों को मास्‍क पहनने, एक-दूसरे के संपर्क में आते समय पर्याप्‍त दूरी बनाये रखने और बार-बार हाथ धोते रहने जैसे एहतियाती उपाय जारी रखने चाहिए। कोविड महामारी पर सर्वदलीय बैठक तीन घंटे चली जिसमें लोकसभा और राज्‍यसभा में विभिन्‍न पार्टियों के सदन के नेताओं ने हिस्‍सा लिया। बैठक में केन्‍द्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह और डॉ. हर्षवर्धन ने भी हिस्‍सा लिया। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी और गुलाम नबी आजाद, टी.एम.सी. नेता सुदीप बंदोपाध्‍याय, डी.एम.के. पार्टी के नेता टी.आर.बालू, राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार तथा कई अन्‍य पार्टियों के नेताओं ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये भाग लिया।

------------

करीब 80 देशों के राजदूतों और उच्‍चायुक्‍तों का एक दल इस महीने की नौ तारीख को हैदराबाद का दौरा करेगा। इस दौरान वे वहां के कुछ महत्‍वपूर्ण अनुसंधान और विकास संस्‍थानों को देखेंगे। विदेश मंत्रालय ने देश की कुछ महत्‍वपूर्ण अनुसंधान और विकास गतिविधियों के बारे में इन राजदूतों को अवगत कराने के लिए इस दौरे का आयोजन किया है। तेलंगाना राज्‍य के मुख्‍य सचिव सोमेश कुमार ने इस सिलसिले में आज हैदराबाद में उच्‍च स्‍तरीय समीक्षा बैठक की। इन राजदूतों और उच्‍चायुक्‍तों के भारत बायोटेक लिमिटेड और ई-बायोलॉजिकल्‍स लिमिटेड में जाने की संभावना है, जहां कोविड-19 की वैक्‍सीन पर काम चल रहा है।

------------

भारत ने कोविड महामारी से निपटने में शानदार कामयाबी हासिल की है और अब तक 90 लाख से अधिक लोग ठीक‍ हुए हैं। स्‍वस्‍थ होने की दर भी बढ़कर 94 दशमलव दो शून्‍य प्रतिशत हो गई है। रोजाना स्‍वस्‍थ होने वालों की संख्‍या नये मामलों की दैनिक संख्‍या से अधिक हो गई है। इस समय देशभर में स्‍वस्‍थ हुए लोगों की संख्‍या इलाज करा रहे रोगियों की तुलना में 22 गुना अधिक है। संक्रमण की पुष्टि वाले रोगियों की दैनिक संख्‍या पिछले 27 दिनों से लगातार 50 हजार से नीचे चल रही है। पिछले 24 घंटों में करीब 36 हजार पांच सौ नये मामलों की पुष्टि हुई जबकि लगभग 43 हजार रोगी इलाज के बाद स्‍वस्‍थ हुए हैं।


स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय के अनुसार कोरोना महामारी की वजह से मृत्‍यु दर में भी गिरावट आई है और यह एक दशमलव चार पांच प्रतिशत हो गई है। मंत्रालय ने बताया है कि पिछले 24 घंटों में कोरोना महामारी ने 540 रोगियों की जान ली है।

------------

देश में पिछले 24 घंटों के दौरान 11 लाख 70 हजार से अधिक कोविड नमूनों की जांच की गई। अब तक 14 करोड 47 लाख 28 हजार नमूनों की जांच की चुकी है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने बताया कि जांच में तेजी लाए जाने से संक्रमण की प्रारंभिक स्‍तर पर पहचान, मरीजों को तत्‍काल अलग-थलग करना तथा कोविड-19 का प्रभावी इलाज संभव हुआ है। इससे संक्रमण से होने वाली मौतों में भी कमी आई है। जांच में तेजी लाए जाने से संक्रमण के नये मामलों में भी कमी आई है और ये अब घटकर चार प्रतिशत से नीचे रह गए हैं। देश में इस समय प्रति दस लाख की आबादी पर विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के निर्धारित मानक के पांच गुणा परीक्षण किए जा रहे हैं।


केन्‍द्र सरकार और भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद ने परीक्षण की दर चरणबद्ध तरीके से बढाते हुए इसके लिए सुविधाएं बढाई हैं। इस वर्ष जनवरी में पुणे के राष्‍ट्रीय वायरोलोजी संस्‍थान की एक प्रयोगशाला से शुरू होकर अब देश में दो हजार एक सौ 96 प्रयोगशालाओं में कोविड नमूनों की जांच की जा रही है। इन प्रयोगशालाओं में एक हजार 186 सरकारी तथा एक हजार दस निजी प्रयोगशालाएं हैं। सभी के लिए कोविड नमूनों की जांच उपलब्‍ध कराने के लिए देश में प्रतिदिन 15 लाख नमूनों की जांच की क्षमता हो गई है।

------------

तेलंगाना में पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड के छह सौ 31 नए ​​मामलों की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही इनकी संख्‍या बढकर दो लाख 72हजार 123 हो गई हैं। कल 57 हजार से अधिक कोरोना संक्रमण नमूनों की जांच की गई। इस दौरान आठ सौ दो लोगों के इस संक्रमण से ठीक होने के बाद राज्य में स्वस्थ होने की दर 96 दशमलव दो-एक प्रतिशत हो गई है। राज्य में अब तक कोविड संक्रमण से ठीक होने वालों की संख्या दो लाख 61 हजार आठ सौ 30 हो गई है।


इस बीच, राज्य के चिकित्सा तथा स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान कोविड से दो और लोगों की मौत हो जाने से मृतकों की कुल संख्‍या एक हजार चार सौ 67 हो गई है। इस समय राज्य में आठ हजार से कम सक्रिय मामले हैं। इनमें से छह हजार आठ सौ मरीज होम आइसोलेशन में हैं।

------------

मिजोरम में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना संक्रमण से 63 मरीज ठीक हुए हैं। कोरोना के सात नए मामलों की पुष्टि होने के साथ ही साथ ही कोविड-19 के मामलों की संख्या बढ़कर तीन हजार आठ सौ 88 हो गई है। राज्य के चिकित्सा विभाग के अनुसार स्‍वस्‍थ होने की दर बढकर 93 दशमलव नौ-सात प्रतिशत हो गई हे। अब तक तीन हजार छह सौ 47 लोग संक्रमण से ठीक हो चुके हैं जबकि सक्रिय मामलों की संख्या दो सौ 35 है।

------------

त्रिपुरा में पिछले 24 घंटे के दौरान कोविड-19 के 68 रोगी स्वस्थ हुए जबकि 39 नए मामलों की पुष्टि हुई। स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार राज्य में संक्रमितों की संख्या 32 हजार 803 हो गई है। इनमें से 31 हजार 924 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। स्वस्थ होने की दर 97 दशमलव तीन-नौ प्रतिशत तक पहुंच गई है। राज्य में कल शाम तक पांच लाख 33 हजार से अधिक लोगों की कोविड जांच की गई। इनमें से पांच लाख से अधिक लोगों में संक्रमण के लक्षण नहीं पाये गए हैं।

------------

गुजरात में, आर.टी.-पी.सी.आर. जांच के लिए डॉक्‍टरों के नुस्‍खे की जरूरत नहीं होगी। राज्‍य स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने आज इसकी घोषणा की। सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार अब लोग सीधे किसी सरकारी या निजी प्रयोगशाला में इसकी जांच करा सकते हैं।


ICMR की नई मार्गदर्शिका के अनुसार अब RT-PCR परीक्षण करवाने के लिए डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन की जरूरत नहीं होगी। अब लोग डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के बगैर कहीं भी अपना RT-PCR परीक्षण करवा सकते है। राज्य सरकार द्वारा पूरे राज्य मे रेपिड ऐन्टीजन परीक्षण की सुविधा निशुल्क उपलब्ध कारवाई जा रही है। इस बीच स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने लोगों को कोरोना के निदान के लिए HRCT-हाई रिसॉल्यूशन कंप्यूटराइज़्ड टोमोग्राफी टेस्ट नहीं करवाने की चेतावनी दी है। विशेषज्ञों का कहेना है की इनके अत्यंत ज्यादा रेडिएशन से केन्सर होने का खतरा भी रहेता है। योगेश पंड्या, आकाशवाणी समाचार, अहमदाबाद।

------------

बृहत बेंगलुरू महानगर पालिका ने कोविड-19 के बारे में ज़रूरी जानकारी देने के लिए अभियान शुरू किया है, जिसके तहत लोगों से मास्‍क लगाने, हाथ धोने और सुरक्षित दूरी बनाए रखने के लिए कहा जा रहा है। इसे अंग्रेजी में थ्री डब्‍ल्‍यूज़ यानि वियर योर मास्‍क, वॉश योर हैंड्स और वॉच योर डिस्‍टेंस का नाम दिया गया है।


पालिके के प्रशासक गौरव गुप्‍ता ने आज बेंगलुरू में इस अभियान की शुरूआत की। इस अभियान को सेनिटाइजेशन किऑस्‍क, ऑडियो विज़ुअल और घर-घर जाकर जानकारी देने के माध्‍यम से चलाया जा रहा है। श्री गुप्‍ता के अनुसार दिल्‍ली, मुम्‍बई और अहमदाबाद में इस महामारी की दूसरी लहर के मद्देनज़र इस अभियान की शुरूआत की गई है।

------------

बेंगलुरू के भारतीय विज्ञान संस्‍थान-आईआईएस के वैज्ञानिकों के एक दल ने एक ऐसा उपकरण विकसित किया है जो कुछ मिनट में ही वाष्‍पीकरण की दर माप सकता है। मेकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रोफेसर जयवंत एच. अराकेरी ने बताया है कि यह उपकरण मौजूदा उपकरणों की तुलना में किफायती और प्रभावी है।


उन्‍होंने कहा कि यह उपकरण, पौधों और मृदा से वाष्‍पीकरण के ज्‍यादा सटीक नतीजे देता है। यह अध्‍ययन एक पत्रिका-जरनल ऑफ हॉइड्रोलॉजी में प्रकाशित हुआ है। पौधों और मृदा के वाष्‍पीकरण को मापना किसानों के लिए आवश्‍यक है जिससे उन्‍हें सिंचाई की जरूरतों के बारे में पता चल सके। इससे मौसम केंद्रों को भी स्‍थानीय वातावरण का आकलन करने में मदद मिलेगी। जैव वैज्ञानिक इसका इस्‍तेमाल पौधों के विभिन्‍न हिस्‍सों का वाष्‍पीकरण मापने के लिए भी कर सकेंगे। प्रोफेसर अराकेरी ने कहा कि इस उपकरण को तैयार करने के लिए वे इच्‍छुक कंपनियों का इंतजार कर रहे हैं।

------------

महाराष्‍ट्र में शोलापुर के शिक्षक रंजीतसिंह दिसाले ने कोरोना महामारी से बहुत पहले अपने छात्रों के लिए क्‍यूआर कोड डिजाइन बनाने शुरू कर दिए थे। कोरोना महामारी के दौरान पूरी दुनिया को शिक्षा को ऑनलाइन ले जाना पड़ा है।


रंजीतसिंह दिसाले को कल लंदन की वर्के फाउंडेशन और यूनेस्‍को ने ग्‍लोबल शिक्षक पुरस्‍कार 2020 का विजेता घोषित किया। शोलापुर जि़ले के पारितेवाडी के जि़ला परिषद स्‍कूल के शिक्षक 32 वर्षीय रंजीतसिंह दिसाले ने पुरस्‍कार राशि दस लाख डॉलर का आधा हिस्‍सा प्रतियोगिता में हिस्‍सा लेने वाले अन्‍य नौ शिक्षकों को देने की घोषणा की है जिससे वे अपने बेहतर काम को जारी रख सकें।


आईटी इंजीनियर बनने का सपना रखने वाले रणजीत सिंह डिसले ने शिक्षक बनने का निर्णय तब किया जब उन्हें महसूस हुआ की शिक्षक ही देश-दुनिया में बदलाव का बेहतरीन माध्यम है। डिसले सोलापुर के परतीवाड़ी के जिला परिषद स्कूल में पढ़ने वाले छात्रों के लिए किसी मसीहा से कम नहीं है। अपने तकनीकी कौशल और शिक्षण विधियों को मिलाकर, डिसाले ने कक्षा 1 से 4 तक के विद्यार्थियो के सभी पाठ्य पुस्तकों में एक अनोखे क्यूआर कोड शामिल किया, जिससे विद्यार्थी स्थानीय कन्नड़ भाषा में कविताओं, कहानियों, वीडियो लेक्चर और गृहपाठ द्वारा शिक्षण प्राप्त कर सकते है इसके अलावा, बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के कारण, पिछले एक दशक में बाल-विवाह में कमी देखी गयी है। इस प्रतिष्ठित पुरस्कार को जीतने वाले पहले भारतीय होने का सम्मान प्राप्त करते हुए, डिसले ने कहा कि यह पुरस्कार उन्हें और अन्य शिक्षकों को रचनात्मक शिक्षण प्रणालियों को विकसित कर, उनका प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित करेगा। डिसले ने कहा कि उन्हें ख़ुशी है वह समुदाय में बदलाव के उत्प्रेरक और अपने छात्रों में जिज्ञासा जागने का एक माध्यम बन पाए हैं। निशा रानी, आकाशवाणी समाचार, मुंबई।

------------

नगालैंड में, कोविड-19 के मरीजों के स्‍वस्‍थ होने की दर 94 दशमलव दो-शून्‍य हो गई है। इसके साथ ही ये राज्‍य स्‍वस्‍थ होने की राष्‍ट्रीय दर के करीब पहुंच गया है। राज्‍य में अब तक स्‍वस्‍थ होने वालों की संख्‍या दस हजार छह सौ तक पहुंच गई है। सक्रिय मामले घटकर 478 हो गये हैं। नगालैंड में आज 239 लोगों के ठीक होने की खबर है।

------------

मणिपुर में पिछले 24 घंटे के दौरान कोविड-19 महामारी से एक सौ 55 लोग संक्रमित हुए हैं। इनमें से पांच केंद्रीय सशस्‍त्र पुलिस बल के जवान हैं। दूसरी ओर, इसी अवधि में दो हजार 73 लोगों को स्‍वस्‍थ होने के बाद अस्‍पतालों से छुट्टी दे दी गई है। राज्‍य में स्‍वस्‍थ होने की दर 87 दशमलव तीन-छह प्रतिशत है।

------------

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अब से कुछ देर बाद पैन आईआईटी यूएसए द्वारा आयोजित आईआईटी-2020 ग्लोबल सम्मेलन को संबोधित करेंगे। इस वर्ष सम्मेलन का विषय है द फ्यूचर इज नाऊ है। इस सम्मेलन में वैश्विक अर्थव्यवस्था, प्रौद्योगिकी नवाचार, स्वास्थ्य, पर्यावास संरक्षण और सार्वभौमिक शिक्षा जैसे विषयों पर विचार-विमर्श होगा।


पैन आईआईटी यूएसए बीस वर्ष से अधिक पुराना संगठन है और 2003 से इस सम्मेलन का आयोजन कर रहा है। इसमें उद्योग, शिक्षा और विभिन्न सरकारों से वक्ताओं को आमंत्रित किया गया है। इस संगठन को आईआईटी के पूर्व छात्र संचालित करते हैं।

-----------

भारतीय रिवर्ज बैंक के गर्वनर शक्तिकांत दास ने कहा है कि मौद्रिक नीति समिति ने बैंकों की नीतिगत दरों को चार प्रतिशत के स्‍तर पर बरकरार रखने का सर्वसम्‍मति से फैसला किया है। उन्‍होंने कहा कि मार्जिनल स्‍टैंडिंग फैसिलिटी को सवा चार प्रतिशत और रिवर्स रेपोरेट को तीन दशमलव तीन-पांच प्रतिशत के स्‍तर पर यथावत रखा गया है।


श्री दास ने कहा कि मौद्रिक नीति समिति का विचार था कि मुद्रास्‍फीति की दर के फिलहाल उच्‍च स्‍तर पर बने रहने की संभावना है, हालांकि खरीफ की भरपूर फसल की संभावना को देखते हुए, जल्‍द खराब होने वाली वस्‍तुओं की कीमतों में सर्दी के मौसम के दौरान कमी आ सकती है।


रिजर्व बैंक के गर्वनर ने कहा कि अर्थव्‍यवस्‍था में मौटे तौर पर सुधार के संकेत नहीं है लेकिन इसके लिए लगातार नीतिगत सहायता देना जरूरी होगा। उन्‍होंने कहा कि 2020-21 में वास्‍तविक सकल घरेलू उत्‍पाद विकास-दर ऋणात्‍मक स्‍तर पर साढ़े सात प्रतिशत रहने की संभावना है।


श्री दास ने कहा कि ग्रामीण मांग में सुधार से अर्थव्‍यवस्‍था और सुदृढ़ होगी जबकि शहरी मांग ने पहले ही जोर पकड़ना शुरू कर दिया है। उन्‍होंने कहा कि विनिर्माण कंपनियों के कारोबारी माहौल में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। उन्‍होंने कहा है कि निजी निवेश अब भी कम है और क्षमता के उपयोग में गिरावट से पूरी तरह उबरना अभी बाकी है।


श्री दास ने कहा कि सप्‍लाई-चेन में व्‍यवधान की वजह से उत्‍पन्‍न मुद्रास्‍फीति के कुचक्र को तोड़ने के लिए उपाय किए जा रहे हैं।

------------

वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारामन ने आज राजस्‍व खुफिया निदेशालय-डीआरआई के 63वें स्‍थापना दिवस समारोह का उद्घाटन किया। श्रीमती सीतारामन ने इस अवसर पर भारत में तस्‍करी से संबंधित रिपोर्ट 2019-20 का लोकार्पण भी किया, जिसमें सोना और विदेशी मुद्रा तथा नशीले पदार्थो की तस्‍करी, व्‍यावसायिक धोखा-धडी और सुरक्षा का विश्‍लेषण किया गया है।

------------

देश में कोविड-19 के कारण लॉकडाउन जल्द ही लगा दिया गया और इसके बाद आर्थिक गतिविधियां भी तुरंत शुरू कर दी गईं। इसके कारण मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स-पीएमआई सितम्बर महीने के 56 दशमलव आठ की तुलना में अक्तूबर 2020 में बढ़कर 58 दशमलव नौ हो गया। यह एक दशक में सबसे बड़ा आंकड़ा है। अक्तूबर में पीएमआई सर्विसेज सूचकांक भी बढ़कर 54 दशमलव एक पर पहुंच गया, जो बाजार में सुधार के संकेत देता है। इससे सात महीने से आ रही मंदी का दौर समाप्त हो गया और बाजार में सुधार के संकेत मिल रहे हैं।


अक्टूबर में बिजली खपत में 12.1 प्रतिशत की वृद्धि और नवम्बर में माह के पहले चौबीस दिनों में 8.5 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की गयी। ये आंकड़े र्थव्यवस्था में सुधार के प्रतीक हैं। साथ ही, कृषि, उद्योग और सेवा क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियों में तेज़ी को भी दर्शाते हैं। वहीं जीएसटी कलेक्शन अक्टूबर माह में पिछले आठ माह के उच्चतम स्तर पर रहा और एक लाख पांच हज़ार करोड़ रुपये राजस्व की प्राप्ति हुई। फरवरी 2020 के बाद जीएसटी कलेक्शन एक लाख करोड़ रुपये से ज़्यादा का रहा, जोकि दस दशमलव दो प्रतिशत की सालाना वृद्धि के साथ एक सकारात्मक वार्षिक वृद्धि को दर्शाता है। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष अक्टूबर में रेलवे की माल ढुलाई में पंद्रह दशमलव चार प्रतिशत की वृद्धि हुई और नवम्बर के पहले दस दिनों में तेरह दशमलव छह प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गयी। इसके अलावा नवम्बर के पहले दस दिनों में रेलवे यात्री बुकिंग से कुल राजस्व पांच सौ तेतीस करोड़ रुपये से ज़्यादा का रहा। वहीं मनरेगा के तहत मौजूदा वित्त वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर के दौरान 252.4 करोड़ कार्य दिवस दिया गया, जबकि पिछले साल यह 159.7 करोड़ कार्य दिवस था। आनंद कुमार, आकाशवाणी समाचार, दिल्ली।

------------

कृषि कानूनों के मुद्दे पर विचार-विमर्श करने के लिए कल नई दिल्‍ली में सरकार और किसान संगठनों के प्रतिनिधियों के बीच पांचवे दौर की बातचीत होगी। दोनों पक्षों के बीच गुरूवार को चौथे दौर की बातचीत हुई थी जिसमें किसानों के 40 संगठनों के प्रतिनिधि और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, रेल मंत्री पीयूष गोयल और वाणिज्‍य राज्‍य मंत्री सोम प्रकाश शामिल हुए।


बैठक के दौरान श्री तोमर ने एक बार फिर कहा कि सरकार किसानों के कल्‍याण के लिए प्रतिबद्ध है। उन्‍होंने किसान संगठनों को आश्‍वासन दिया कि न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य-एमएसपी प्रणाली जारी रहेगा। इसलिए किसानों को डरने की ज़रूरत नहीं है।


देशभर के किसान नये कृषि कानूनों की प्रशंसा कर रहे हैं।


पंजाब के किसान शिवचरण सिंह ने आकाशवाणी से बातचीत में कहा कि ये तीनों कानून बहुत ही ऐतिहासिक हैं और इनसे बड़ा बदलाव आयेगा।


उत्तर प्रदेश के किसान धर्म विजय ने आकाशवाणी से बातचीत में कहा कि यह आंदोलन राजनीतिक दलों से प्रायोजित है।


हमें लगता है उन्होंने बिल नहीं पढ़ा है। किसी राजनैतिक दल के प्रभाव में आके यह प्रायोजित आंदोलन लग रहा है। इसका कोई किसान ले लेना-देना है नहीं। इतनी बड़ी-बड़ी फार्च्यूनर्स, स्कार्पियो और एंडीवर जैसी गाड़ी प्रदर्शन में आ रही हैं, किसानों के पास कहां रखी हैं। हम भी मोटर साइकिल से चलते हैं।

------------

एक राष्‍ट्र, एक बाजार बनाने के उद्देश्‍य से हाल ही में लागू किए गए नये कृषि कानून ने मध्‍य प्रदेश के किसानों और व्‍यापारियों में नई उम्‍मीद जगाई है।


मध्य प्रदेश के एक कृषि व्यवसायी नागेश अग्रवाल जबलपुर में खाटू श्यामजी पल्स प्राइवेट लिमिटेड का सफलतापूर्वक संचालन कर रहे हैं।नए कृषि कानून का स्वागत करते हुए, नागेश अग्रवाल ने कहा कि अब वह बिना किसी भय के व्यापार कर रहे हैं।


(भारत सरकार ने जो स्टॉक लिमिट खत्म कर दिया है, उससे भयमुक्त व्यापार हो गया है। दूसरी ओर सरकार ने जो कृषि को मंडी के बाहर बेचने के लिए एक स्वीकृति प्रदान करी है, वो बहुत अच्छा सरकार का कदम है। इससे व्यापार बहुत आसान हो गया है।)


नए कृषि बिल के अमल में आने के बाद से छोटे पैमाने पर व्यवसाय करने वालों और मिलर्स को अब बिना किसी मात्रात्मक प्रतिबंध के कच्चा माल का स्टॉक रखने की छूट मिल गयी है। गौरतलब है कि आवश्यक वस्तु (संशोधन) विधेयक, 2020 ने आवश्यक वस्तुओं की सूची से अनाज, दाल, तिलहन, खाद्य तेल, प्याज और आलू जैसी वस्तुओं को हटा दिया है। इससे असाधारण परिस्थितियों को छोड़कर स्टॉक-होल्डिंग की सीमा समाप्त हो गयी है। संजीव शर्मा, आकाशवाणी समाचार, भोपाल।

------------

जम्‍मू-कश्‍मीर में जि़ला विकास परिषद चुनाव का तीसरा चरण तकरीबन 51 प्रतिशत मतदान के साथ सुचारू रूप से सम्‍पन्‍न हो गया। जम्मू में मतदान प्रतिशत 68 दशमलव आठ-आठ प्रतिशत दर्ज किया गया, जबकि कश्‍मीर घाटी में यह 31 दशमलव छह-एक प्रतिशत रहा।

------------

भारत ने ऑस्‍ट्रेलिया को तीन मैचों की ट्वेंटी-ट्वेंटी क्रिकेट श्रृंखला के पहले मैच में 11 रन से हराकर श्रृंखला में 1-0 की बढ़त बना ली। भारतीय टीम ने निर्धारित 20 ओवर में 7 विकेट पर 161 रन बनाए। जवाब में ऑस्ट्रेलियाई टीम 7 विकेट पर 150 रन ही बना सकी। यज़ुवेन्‍द्र चहल ने तीन विकेट लिये और उन्‍हें मैन-ऑफ-द-मैच घोषित किया गया।

------------

Live Twitter Feed

Listen News

Morning News 21 (Jan) Midday News 21 (Jan) Evening News 20 (Jan) Hourly 21 (Jan) (1910hrs)
समाचार प्रभात 21 (Jan) दोपहर समाचार 21 (Jan) समाचार संध्या 20 (Jan) प्रति घंटा समाचार 21 (Jan) (1900hrs)
Khabarnama (Mor) 21 (Jan) Khabrein(Day) 21 (Jan) Khabrein(Eve) 20 (Jan)
Aaj Savere 21 (Jan) Parikrama 21 (Jan)

Listen Programs

Market Mantra 21 (Jan) Samayki 1 (Jan) Sports Scan 20 (Jan) Spotlight/News Analysis 20 (Jan) Employment News 20 (Jan) रोजगार समाचार 19 (Jan) World News 20 (Jan) Samachar Darshan 22 (Mar) Radio Newsreel 21 (Mar)
    Public Speak

    Country wide 12 (Mar) Surkhiyon Mein 20 (Jan) Charcha Ka Vishai Ha 11 (Mar) Vaad-Samvaad 17 (Mar) Money Talk 17 (Mar) Current Affairs 6 (Mar) Sanskrit Saptahiki 16 (Jan) North East Diary 21 (Jan)